Sunday, July 29, 2018

चंद्रग्रहण के बारे में रोचक जानकारी हिंदी में | Lunar Eclipse Details in Hindi

Chandra Grahan Lunar Eclipse Details in Hindi : नमस्कार दोस्तों। अभी अभी 27 जुलाई 2018 को हम सबने इस सदी के सबसे लम्बे चंद्र ग्रहण का नजारा किया यह एक अद्भुत नजारा था जिसमे पूर्ण चंद्र ग्रहण के वक्त चाँद ब्लड मून में परिवर्तित हो जाता है। यह ग्रहण 21वी सदी का सबसे लम्बा चंद्र ग्रहण था। 

यह चंद्र ग्रहण पुरे 1 घंटे और 43 मिनिट तक चला था और भारत में देखा गया था। भारत के आलावा कुछ अन्य देशों में भी Lunar Eclipse देखा गया था। 


तो चलिये फिर आज इस आर्टिकल में चंद्र ग्रहण पर ही बात करते है। इस आर्टिकल chandra grahan in hindi में हमने आपके लिए चंद्र ग्रहण से जुडी जानकारी विस्तार से रखने का प्रयत्न किया है। हमने इस आर्टिकल में lunar eclipse question answer भी समाविष्ट किया हो जो की आपको competitive exams के लिए बहुत मददगार होंगे। 


चंद्र ग्रहण खगोलशास्त्र का एक छोटा सा भाग है इस लिए यह geography in hindi के लिए भी काफी महत्वपूर्ण आर्टिकल है। तो आइये अब information about Lunar Eclipse in Hindi आर्टिकल की तरफ आगे बढ़ते है। 



Chandra Grahan Lunar Eclipse in Hindi 27 July 2018


चंद्र ग्रहण  ( Lunar Eclipse )

सामान्य रूप से चंद्र सूर्य के प्रकाश से प्रकाशित रहता है। चंद्र पृथ्वी का उपग्रह होने के नाते उसके आसपास परिभ्रमण करता है और तकरीबन 27 दिनों में पृथ्वी का पूरा चक्कर लगाता है। चंद्र पृथ्वी की प्रदिक्षणा करता है जबकि पृथ्वी सूर्य के आसपास चक्कर लगाती है। 

सामान्यतः इस परिभ्रमण के दौरान चंद्र, पृथ्वी और सूर्य एक रेखा में नहीं होते है जिसकी वजह से पृथ्वी की छाया चंद्र पर नहीं पड़ती है। लेकिन जब पूर्णिमा को चंद्र पृथ्वी की कक्षा की और आता है तब अगर पृथ्वी की स्थिति सूर्य के साथ एक रेखा में रहती है तो पृथ्वी की छाया चंद्र पर पड़ती है और इसी परिस्थिति को चंद्र ग्रहण या अंग्रेजी में Lunar Eclipse कहते है। 

how-lunar-eclipse-occurs
    
अगर पृथ्वी की आंशिक छाया चंद्र पर पड़े और धनुष या फिर हँसिया जैसी आकृति बनती है तो इस ग्रहण को चंद्र अंश ग्रहण या फिर खंड ग्रहण (Partial Lunar Eclipse) कहते है। अगर चंद्र पृथ्वी की छाया में पूर्णतः ढक जाता है तो उसे चंद्र पूर्ण ग्रहण या खग्रास ग्रहण (Total Lunar Eclipse) कहते है।  

अगर सरल भाषा में कहे तो चंद्रग्रहण उस खगोलीय स्थिति को कहते है जब चंद्रमा पृथ्वी के ठीक पीछे उसकी प्रच्छाया में आ जाता है और ऐसा तभी हो सकता है जब सूर्य, पृथ्वी और चन्द्रमा इस क्रम में लगभग एक सीधी रेखा में स्थित हों।


चंद्र ग्रहण के बारे में रोचक तथ्य | Interesting Lunar Eclipse Facts in Hindi 

अभी हमने जाना की चंद्र ग्रहण कैसे होता है अब आइये कुछ और चंद्र ग्रहण से जुड़े तथ्यों के बारे में जानते है जिसे जानकर आपको बड़ा मजा आएगा साथ में आपकी जानकारी भी बढ़ेगी।  

सबसे लंबे चंद्र ग्रहण(Lunar Eclipse)के पीछे क्या है वजह


27 जुलाई 2018 को हुए चंद्र ग्रहण की खास विशेषता यह थी की वो इस सदी का सबसे लम्बा चंद्र ग्रहण था तो आइये जानते है उस वजह को जिसके कारन हमे सदी का सबसे लम्बा चंद्र ग्रहण देखने का मौका मिला। 


चंद्र के मुकाबले पृथ्वी काफी बड़ी है। इस बार चंद्र पृथ्वी के बिलकुल केंद्र से उत्तर की तरफ गुजरा था इसी लिए पृथ्वी की परछाई से बहार निकलने में चंद्र को ज्यादा समय लगा और यह चंद्र ग्रहण तकरीबन 2 घंटे तक चला। 


इससे पहले सबसे लंबा चंद्र ग्रहण कब हुआ था ?


NASA के पास इसकी काफी जानकारी उपलब्ध है। इतिहास का सबसे लम्बा चंद्र ग्रहण (longest lunar eclipse) 1700 में हुआ था जो तकरीबन 6 घंटे तक चला था। 


अगला लम्बा चंद्र ग्रहण कब होगा ?

27 जुलाई 2018 की रात लगने वाला Chandra Grahan सदी का सबसे लंबा ग्रहण था। इसके बाद 9 जून 2123 में इतना लंबा Lunar Eclipse देखने को मिलेगा।


पूर्ण चंद्र ग्रहण पर क्यों लाल दिखाई देता है चंद्र ?


दरअसल चंद्रग्रहण के समय जब सूरज और चंद्र के बीच पृथ्वी आती है तो सूरज की किरण रुक जाती है।  
पृथ्वी के वातावरण की वजह से रोशनी परावर्तित होकर चांद पर पड़ती है और इसी कारण चंद्रमा लाल नजर आता है। जब पूर्ण चंद्रग्रहण होता है तभी ब्लड मून होता है। 

भविष्य में नहीं दिखेगा चंद्र ग्रहण - जाने क्यों ?

खगोलीय घटना पर नजर रखने वाली संस्था नासा के मुताबिक चंद्र हर साल पृथ्वी से 5 सेंटीमीटर दूर हो रहा है। यह होने का कारन गुरुत्वाकर्षण बल है। पृथ्वी की परिभ्रमण गति चंद्र से ज्यादा है और यही वजह से चंद्र पृथ्वी से दूर जा रहा है।
चंद्र पृथ्वी से दूर जा रहा है जिसकी वजह से भविष्य में चंद्र ग्रहण और सूर्य ग्रहण जैसी घटनाये होंगी ही नहीं। हालाँकि यह सब होने में 60 से 70 करोड़ साल लगेंगे। 

More General Knowledge Articles:


0 comments: