Sunday, July 15, 2018

GPSC Class 1-2 Recruitment 2018 for 294 Dy Collector / DySP & Other posts

GPSC Class 1-2 Recruitment 2018 : The Government of Gujarat has confirmed the recruitment process for class 1 and 2 for the year 2018. GPSC (Gujarat Public Service Commission) has declared the posting of 294 important places for class 1 and class 2 like Deputy Collecter, Dy.S.P, Taluka Development Officer and many other important places.

The details of GPSC Recruitment, Educational Qualification, Age Limit and Selection Process are given in the post. So read the whole article carefully. The mode of application will be online only and the jobs will be posted on gpsc-ojas.gujarat.gov.in and on ojas.gujarat.gov.in from 16/07/2018. 



GPSC Class 1-2 Recruitment 2018

GPSC Class 1 2 Posts

Total Number of Posts : 294 Posts

Class 1 Posts



  • Deputy Collector, Deputy District Development officer, Gujarat Administrative Service - 50 Posts.
  • Assistant commissioner of state tax - 15 posts.
  • Assistant Comm Tribal Development - 05 posts.
  • Deputy Superintendent of Police - 03 Posts.
  • Deputy director, Developing Castes - 01 Post.
  • Deputy director, Scheduled Castes - 01 Post.
Class 2 Posts
  • State tax officer - 40 Posts.
  • Mamlatdar - 34 Posts.
  • Taluka Development Officer - 32 Posts.
  • Municipal Chief Officer - 31 Posts.
  • Govt Labour Officer - 28 Posts.
  • Tribal Development Officer - 17 Posts.
  • District Inspector Land Records - 13 Posts.
  • Sachivalay Section Officer - 10 Posts.
  • Assistant Director, Food and Civil Supply - 10 Posts.
  • Prohibition and excise superintendent - 02 posts.
  • GPSC Section officer - 01 Post.
  • Social welfare officer - 01 Post.
Educational Qualifications : The candidate must have Bachelor's Degree with government recognized university.

Age Limit : Applicant must be aged between 20 to 35 years. ( Age relaxation will be applied as govermentt rules )

Salary and Pay Scale for Class 1: Pay matrix level 10 : 56,100 to 1,77,500 with other allowances according to 7th pay commission.

Salary and Pay Scale for Class 2: Pay matrix level 8 : 44,900 to 1,42,400 with other allowances according to 7th pay commission.

Job Application Mode : Through official website of GPSC https://ojas.gujarat.gov.in/

Application Fee : Candidates have to pay 100 rs as an application fee through online or in post office.

Selection Process : Selection for the post of Class 1 and class 2 jobs will be based on 2 steps of examination. Prelims and mains.
  1. First will be Preliminary examination. Prelim exam will be objective type.
  2. Main Exam will be written exam and personal interview.
Exam Pattern :
Exam Pattern
Advertisement : View
Apply Online : Apply

Important Dates for GPSC class 1 2 Recruitment

  • Online Application Starting Date : 16-07-2018
  • Online Application Last Date : 31-07-2018
  • Fee Payment Last Date : 31-07-2018
  • Preliminary Exam Date : 21-10-2018
  • Preliminary Exam Result : December, 2018.
  • Main Exam Date : 17 February, 23 February and 24 February 2019.
  • Main Exam Result : June, 2019.
  • Personal Interview : July, 2019.

Friday, July 13, 2018

कुलदीप यादव - रोहित शर्मा के आगे इंग्लैंड ने टेके घुटने - पहले एकदिवसीय मुकाबले में भारत की शानदार जीत

Ind vs Eng First ODI, Nottingham: इंग्लैंड के खिलाफ पहले एकदिवसीय मुकाबले में भारत ने इंग्लैंड को 8 विकेट से हरा दिया। इसके साथ ही भारत ने एकदिवसीय श्रृंखला में 1 - 0 से बढ़त बना ली है। भारत के कुलदीप यादव ने शानदार गेंदबाजी करते हुए 6 इंग्लिश बल्लेबाजों को चलता किया तो रोहित शर्मा के नाबाद शतक की बदौलत भारत ने इंग्लैंड के खिलाफ शानदार जीत दर्ज की। 

भारत बनाम इंग्लैंड टॉस: 

नॉटिंघम में खेले जा रहे पहले वनडे मुकाबले में भारतीय कप्तान विराट कोहली ने टॉस जीता और पहले गेंदबाजी करने का फैसला लिया। 



इंग्लैंड पारी 

टॉस हार कर पहले बल्लेबाजी करने उतरी इंग्लैंड की टीम की शुरुआत जेसन रॉय और जॉनी बैरस्टोव ने की। इन दोनों ने शानदार बल्लेबाजी करते हुए इंग्लैंड की टीम को मजबूत शुरुआत दिलाई। दोनों ने मिलकर पहली विकेट के लिए 10 ओवरों में 73 रन जोड़े और इंग्लैंड के लिए बड़े स्कोर का प्लेटफार्म तैयार किया लेकिन कुलदीप यादव ने इंग्लैंड के बल्लेबाजों की सोच पर पानी फेर दिया। 

india-vs-england-first-odi-nottigham-kuldeep-yadav


कुलदीप यादव ने जेसन रॉय को आउट कर इंग्लैंड को पहला झटका दिया। रॉय ने 38 रन बनाये। तेरहवें ओवर में कुलदीप यादव ने एक ही ओवर में जो रुट और जॉनी बैरस्टोव को आउट कर इंग्लैंड को बैकफूट पर धकेल दिया। 

कप्तान मॉर्गन को भी चहल ने आउट कर इंग्लैंड को चौथा झटका दिया। मॉर्गन के आउट होने के बाद नेम स्टॉक्स और जोस बटलर ने इंग्लैंड की पारी को संभाला और पांचवे विकेट के लिए 93 रन जोड़े। दोनों ने अर्धशतक बनाये और इंग्लैंड को 268 के स्कोर तक पहुँचाया। इंग्लैंड की पूरी टीम 49.5 ओवरों में आउट  हो गई। 

भारत की ओर से कुलदीप यादव ने सबसे ज्यादा 6 विकेट लिए। उमेश यादव ने 2 जबकि चहल को 1 विकेट मिला। 

भारतीय पारी 

  • 269 के स्कोर का पीछा करने उत्तरी भारतीय टीम को शिखर धवन और रोहित शर्मा की जोड़ी ने शानदार शुरुआत दिलाई। धवन -रोहित की जोड़ी ने पहले विकेट के लिए 7. 5 ओवरों में 59 रन जोड़े। धवन को 40 रनो पर आउट कर मोईन अली ने इंग्लैंड को पहली सफलता दिलाई। 

rohit-yadav-137-vs-england

धवन के आउट होने के बाद रोहित शर्मा ने विराट कोहली के साथ मिलकर उमदा बल्लेबाजी की दोनों ने दुसरे विकेट के लिए 167 रन जोड़े। विराट कोहली 75 रन बनाकर आउट हो गए। भारत ने जित का लक्ष्य 40.1 ओवरों में ही हांसिल कर लिया। रोहित शर्मा शानदार शतक लगाकर नाबाद रहे। रोहित शर्मा ने 137 रन बनाये। कुलदीप यादव को शानदार गेंदबाजी के लिए मेन ऑफ़ ध मैच चुना गया। 


  • भारतीय टीम 
  1. विराट कोहली ( कप्तान )
  2. रोहित शर्मा 
  3. शिखर धवन 
  4. के एल राहुल 
  5. सुरेश रैना 
  6. महेंद्र सिंह धोनी 
  7. हार्दिक पांड्या 
  8. कुलदीप यादव 
  9. उमेश यादव 
  10. यजुवेंद्र चहल 
  11. सिद्धार्थ कॉल 
  • इंग्लैंड टीम 
  1. ईओन मॉर्गन ( कप्तान )
  2. जेसन रॉय 
  3. जॉनी बैरस्टो
  4. जो रुट 
  5. बेन स्टोक्स 
  6. जोस बटलर 
  7. मोईन अली 
  8. डेविड विली 
  9. लिएम प्लंकेट 
  10. आदिल रशीद 
  11. मार्क वुड 

तीन वनडे मुकाबलों में यह पहला मुकाबला था। इससे पहले भारत ने टवेंटी टवेंटी सीरीज़ पर 2 - 1 से कब्ज़ा किया था। भारत अब सीरीज़ में 1 - 0 से आगे है।  


 

Wednesday, June 27, 2018

Essay on Raksha Bandhan in Hindi | रक्षाबंधन पर निबंध

Essay on Raksha Bandhan in Hindi : नमस्कार दोस्तों !! हिंदी निबंध की श्रेणी में आज हम बहुत ही खास त्यौहार की बात करने वाले है। हम सभी भारत को त्योहारों की भूमि के रूप में जानते है। भारत विविधता में एकता रखने वाला देश है और यहाँ हर धर्म के लोग मिल झूलकर रहते है। तो आज इस स्पेशल आर्टिकल में हम रक्षाबंधन पर निबंध आपके लिए लेकर आये है। रक्षाबंधन भाई बहन के पवित्र रिश्ते को दर्शाता त्यौहार है और इस पोस्ट में हम निबंध तो लाये ही है साथ में रक्षाबंधन का इतिहास और रक्षाबंधन का ऐतिहासिक महत्त्व 
भी आपके सामने रखेंगे। तो आये अब रक्षाबंधन के बारे में इस रोचक और तथ्यपूर्ण आर्टिकल को आगे बढ़ाते है।


Essay on Raksha Bandhan in Hindi | रक्षाबंधन पर निबंध

रक्षा बंधन एक हिन्दू त्यौहार है जिसे खासकर भाई बहन के पवित्र रिश्ते से जोड़ा गया है। हिन्दू के साथ साथ जैन लोग भी रक्षाबंधन मनाते है। रक्षाबंधन को राखी के नाम से भी जाना जाता है। राखी के साथ साथ उसे सलूनो, श्रावणी या फिर बलेव के नाम से भी जाना जाता है। 

Essay on Raksha Bandhan in Hindi | रक्षाबंधन पर निबंध


रक्षाबंधन कब मनाई जाती है ?

रक्षाबंधन हर साल श्रावण मास की पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है। श्रावण मास को सावन के नाम से भी जाना जाता है। श्रावण में आने के कारण रक्षाबंधन को श्रावणी या सलूनो के नाम से जाना जाता है।  

रक्षाबंधन में सबसे ज्यादा महत्त्व राखी का होता है। बहन अपने भाई की कलाई पर राखी बाँधती है और उसकी लंबी उम्र के लिए प्रार्थना करती है। राखी को रक्षासूत्र के नाम से भी जाना जाता है। राखी के रूप में कच्चे सूत से लेके रंगबिरंगी धागा, रेशमी डोर या फिर सोने चाँदी की कोई चीज़ जिसे कलाई पर बाँधा जा सके वो भी हो सकती है। 

रक्षाबंधन स्पेशल पोस्ट आपके लिए 
रक्षाबंधन कैसे मनाते है ?

आम तोर पर बहनें भाई को राखी बांधती है लेकिन कई जगहों पर ब्राह्मण और गुरु भी अपने यजमान को राखी बांधते है। राखी के दिन सभी सुबह जल्दी उठ जाते है और स्नान आदि पूर्ण करके राखी सेलिब्रेशन के लिए तैयार हो जाते है। 

महिलाए या फिर लड़कियाँ रक्षाबंधन  पूजा की थाली तैयार करती है। पूजा की थाली में राखी रखी जाती है और साथ में ही दीपक, चावल, कुमकुम और मिठाई भी रखी जाती है। सबसे पहले लड़के तैयार होकर स्थान पर बैठते है। इसके बाद बहन उसको कुमकुम का तिलक करती है और उसपर चावल लगाती है। 

भाई की दाई कलाई पर राखी बंधी जाती है और उसकी आरती उतारी जाती है। बहन अपने भाई की रक्षा और लम्बी उम्र की कामना करती है तो भाई उसकी रक्षा करने का वचन देता है। दोनों एकदूसरे का मुंह मीठा करवाते है और इस तरह बहुत ही प्यार से यह त्यौहार मनाया जाता है। 

रक्षाबंधन भाईदूज की तरह ही भाई बहन की रिश्तों की महत्ता दर्शाता है। कई जगहों पर रक्षाबंधन के दिन वृक्षों की रक्षा करने के लिए पेड़ो को भी राखी बांधते है। 

रक्षाबंधन का इतिहास या ऐतिहासिक महत्त्व 

रक्षा बंधन की शुरुआत कैसे हुई इसके बारे में कोई ठोस जानकारी नहीं है लेकिन भविष्य पुराण में रक्षाबंधन से संबंधित जानकारी अवश्य मिलती है। रक्षाबंधन से जुड़े ३ ऐसे प्रसंग के बारे में हम यहाँ  आपको जानकारी देंगे।

प्रसंग 1 : एक बार जब देव और दानव का युद्ध जारी था तब दानवो उन पर भारी पड़ते नजर आये। देवो के राजा इन्द्र ने बृहस्पति के पास जाकर उनको इसके बारे में बताया। इन्द्र की पत्नी, इंद्राणी उस वक्त वही पे थी। उन्होंने पूरी बात सुनी और रेशम का एक धागा अभिमंत्रित कर इन्द्र की कलाई पर बांध दिया। इन्द्र की उस लड़ाई में जीत हुई। वो दिन श्रावणी पूर्णिमा का था। लोगो को विश्वास आने लगा के श्रावण पूर्णिमा के दिन बाँधा जाने वाला धागा शक्ति, सुरक्षा और विजय का विश्वास दिलाता है। उसी दिन से श्रावण पूर्णिमा के दिन रक्षा बंधन मनाई जाती है।

प्रसंग 2 : रक्षाबंधन से जुडी दूसरी कथा राजा बलि और भगवन विष्णु के साथ जुडी है। जब बलि राजा ने 100 यज्ञ सम्पन्न किये तो उन्होंने स्वर्ग को देवताओ से छीनने का प्रयत्न किया। घबराए देवताओं ने भगवान विष्णु को इस संकट से बचने के लिए प्रार्थना की।

भगवन विष्णु ने वामन अवतार लिया और ब्राह्मण के वेश में बलि राजा के पास जाकर भिक्षा में तीन कदम जमीन मांगी। बलि राजा के गुरु ने उन्हें ऐसा करने से मना कर दिया लेकिन बलि राजा नहीं मानेऔर उन्होंने तीन कदम भूमि दान कर दी।

भगवन विष्णु ने दो कदम में ही सारा आकाश और धरती ले ली। जब विष्णु ने तीसरे कदम की मांग की तो बलि राजा ने अपना सिर उनके आगे जुका दिया। विष्णु भगवान ने उसके सिर पर कदम रखकर उसे रसातल भेज दिया।

लेकिन बलि ने अपने तपोबल के जरिये विष्णु को रात दिन अपने सामने रहने का वचन ले लिया। अब भगवन के घर न आने के कारण लक्ष्मी देवी परेशान हो गई और नारद जी से उपाय माँगा। नारदजी के उपाय को मानते हुए लक्ष्मीजी ने बलि को अपना भाई बना लिया और विष्णु जी को बलि के साथ घर ले आई। वो दिन भी श्रावण पूर्णिमा का था इसी लिए रक्षाबंधन को बलेव भी कहते है। 

प्रसंग 3 : मेवाड़ की रानी कर्मावती को बहादुरशाह की  मेवाड़ पर करने वाली चढ़ाई की गुप्त सुचना मिल चुकी थी। रानी अकेली बहादुरशाह की सेना से लड़ने में असमर्थ थी इसी लिए उन्होंने मुग़ल बादशाह हुमायुँ को राखी भेजी और उन्हें मेवाड़ की रक्षा करने की विनती की।

हुमायुँ मुसलमान था फिर भी उसने उस राखी की लाज रखी और कर्मावती को मदद की और उनके राज्य की रक्षा की।  

Sunday, June 10, 2018

Happy Krishna Janmashtami Wishes Images in Hindi English

Happy Krishna Janmashtami Wishes Images : नमस्कार दोस्तों आप सभी को जन्माष्टमी की ढेर सारी शुभकामनाएँ। हम सभी जानते है की भगवान श्री कृष्णा के जन्मदिन को हम जन्माष्टमी के रूप में मनाते है और हर भारतीय चाहे वो भारत में हो या विदेश में वो बहुत ही उत्साह के साथ जन्माष्टमी का त्यौहार सेलिब्रेट करते है। 

हम सभी भगवान श्री कृष्ण को काफी मानते है और उनके विभिन्न रूपों की पूजा करते है। कृष्ण एकमात्र ऐसे भगवान है जिनके बचपन के शैतानियों को भी लोग प्यार करते है और उनके द्वारा दिए गए भगवदगीता के ज्ञान को भी फॉलो करते है। इसी लिए कृष्णा सभी के प्रिय भगवान है और इसमें कोई शक नहीं है। 


इसी लिए जन्माष्टमी के सेलिब्रेशन को आपके लिए स्पेशल बनाने के लिए हमने यह Happy Krishna Janmashtami Wishes Images की आर्टिकल बनाया है। इस पोस्ट में हमने krishna janmashtami के लिए wishes images आपके लिए कलेक्ट किये है जो की hindi और english दोनों भाषाओं में है। 

इससे पहले हमने krishna janmashtami images और janmashtami images download के लिए भी पोस्ट बनाये है उम्मीद है आपको वो पसंद आएंगे। 



Happy Krishna Janmashtami Wishes Images


Happy Krishna Janmashtami Wishes Images


Happy Krishna Janmashtami Wishes Images


Happy Krishna Janmashtami Wishes Images in Hindi


Happy Krishna Janmashtami Wishes Images in Hindi

Happy Krishna Janmashtami Wishes Images Free Download


Happy Krishna Janmashtami Wishes Images Free Download


Happy Krishna Janmashtami Wishes Images in English


Happy Krishna Janmashtami Wishes Images in English

Happy Krishna Janmashtami Wishes Images in HD

Happy Krishna Janmashtami Wishes Images in HD

Friday, June 8, 2018

आमिर खान लॉन्च करेंगे विश्वरूपम 2 का ट्रेलर - जाने कब

मशहूर अभिनेता कमल हसन की आने वाले फ़िल्म विश्वरूपम 2 के ट्रेलर लॉन्च की तारीख जारी कर दी गई है और खास बात यह है की इस ट्रेलर को बॉलीवुड के मिस्टर परफेक्शनिस्ट कहे जाने वाले आमिर खान टवीटर पर जारी करेंगे। 

हिंदी फिल्म के साथ साथ इस फिल्म के तमिल और तेलुगु संस्करण का ट्रेलर भी जारी किया जायेगा। विश्वरूपम 2 का तमिल फिल्म का ट्रेलर कमल हसन की बेटी श्रुति हसन करेंगी जबकि तेलुगु ट्रेलर साऊथ के सुपर स्टार जूनियर एन टी आर करेंगे। ट्रेलर 11 जून को शाम 5 बजे लॉन्च किया जायेगा।  

vishwaroopam-2-trailer-in-hindi

आपको जानकारी देते हुए बताये की विश्वरूपम 2,  कमल हसन की 2013 में रिलीज़ हुई फिल्म विश्वरूपम का सीकवल है। विश्वरूपम तकरीबन 95 करोड़ की लागत में बनाई गई थी और 215 करोड़ का उसने बिज़नेस किया था। कमल हसन के काम को भी काफी सराहा गया था। जून महीना सिने प्रेमियों के लिए अच्छा जाने वाला है क्योंकि सलमान खान की रेस 3 और कपूर की संजू फिल्म भी इसी जून महीने में रिलीज़ होने वाली है।   

Thursday, June 7, 2018

श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर निबंध हिंदी में | Essay on Janmashtami in Hindi

Essay on Janmashtami in Hindi : कृष्ण जन्माष्टमी कहे या फिर सिर्फ जन्माष्टमी, यह हम सबके प्यारे भगवान श्रीकृष्णा का जन्मदिन है। हम सब जानते है की भारत त्योहारों का देश है और सभी जाती और धर्म के लोग यहाँ मिल झूल कर रहते है। भारत में दीवाली, मकर संक्रांति, दशहरा, जन्माष्टमी और कई सारे त्यौहार बड़ी ही शानदार रूप में मनाये जाते है। 

जन्माष्टमी हिंदूओ के उन प्रमुख और प्रसिद्ध त्योहारों मे से एक है जिनका उत्सव हर भारतीय धामधूम से मनाते है। इस पोस्ट में हमने जन्माष्टमी पर हिंदी में निबंध और अन्य कुछ जन्माष्टमी से जुडी जानकारी आपसे शेयर की है। उम्मीद है की आपको यह जानकारी पसंद आएगी। यहाँ दी गई जानकारी आपको जन्माष्टमी पर निबंध तैयार करने में काफी उपयोगी साबित होंगी। तो चले बढ़ते है निबंध की तरफ। 


Essay on Janmashtami in Hindi



जन्माष्टमी :

 जैसे की हमने पहले बताया की जन्माष्टमी भगवान श्री कृष्ण का जन्मदिन है और उसी को हम जन्माष्टमी के रूप में बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाते है। जन्माष्टमी हिन्दू  कैलेण्डर के मुताबिक भाद्रपद माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को मनाया जाता है। भगवान श्री कृष्ण ने कंस का वध करने के लिए इसी दिन धरती पर जनम लिया था। 

जन्माष्टमी को कृष्णा जन्माष्टमी के साथ साथ श्री जयंती, कृष्णाष्टमी और गोकुलाष्टमी के नाम से भी जाना जाता है। जन्माष्टमी पुरे हर्षोल्लास के साथ भारत में और विदेश में जहाँ जहाँ भारतीय बसे हुए है वो हर एक जगह या देश में मनाया जाता है। क्यूँकि भगवान श्री कृष्ण का जन्म मथुरा में हुआ था, मथुरा में जन्माष्टमी के त्यौहार की रौनक देखते ही बनती है। सजावट, नाच गान और भजन कीर्तन से मथुरा की रौनक देखते ही बनती है। इसीलिए मथुरा में लोग देश भर में से जन्माष्टमी मनाने आते है। 

जन्माष्टमी के अवसर पर देशभर के कुष्ण मंदिरो को सजाया जाता है और मंदिरो में कुष्ण की झांकिया बनाई जाती है। जगह जगह पर रास लीला और कृष्णलीला के कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है और मंदिरो में किशन कन्हैया को झूला झुलाया जाता है। स्री और पुरुष उपवास रखते है और आधी रात होते ही श्री कृष्णा का जन्मोत्सव मनाकर व्रत तोड़ते है। 

दही हांड़ी : जन्माष्टमी का त्योहार देश के कई इलाको में खासकर मुंबई और गुजरात में दही हांड़ी का कार्यक्रम रखकर भी मनाया जाता है। दही हांड़ी प्रतियोगिता में विविध टोलिया बाल गोविंदा बनाकर भाग लेते है। एक मटके में छाछ और दही भरकर उसे रस्सि की मदद से आसमान में लटकाया जाता है। बाल गोविंदा और उनकी टीम पिरामिड बनाकर उस मटकी को फोड़ते है और जन्माष्टमी का त्यौहार नाच गान व उल्लासपूर्ण तरीके से मनाते है। 

जन्माष्टमी पर निबंध आपको कैसा लगा इसके बारे में निचे दिए गए कमेंट बॉक्स के जरिये हमें जरूर बताये और इस पोस्ट को लाइक व् शेयर करना नहीं भूले।  

Tuesday, June 5, 2018

Happy Janmashtami Images Wallpapers for WhatsApp Facebook Free Download

Krishna is the lord of love, wisdom, courage and of all the other emotions which are related with human requirement or nature directly or indirectly. Krishna is the God of love and colors. Krishna himself is a color. Color of joy, love, courage, wisdom and much more. And that is the reason why Krishna is loved so much in all over the world. 

Janmashtami is the Hindu festival that is celebrated to praise the birth of lord Krishna. Janmashtami or Krishnashtami is celebrated with the great excitement. Janamshtami 2018 is on 2nd September this year and the joy of Janmashatami is already in the air.


To celebrate the birth of Krishna, we have created this special post on Happy Janmashtami Images. Krishna is the God of various nature and that is why we have collected various Krishna Janmashtami Photos and krishna janmashtami images hd. You can use these Happy Janmashtami 2018 Images as your computer wallpaper or whatsapp and facebook profile picture. 





These janmashtami images download is totally free and you can share these Happy Janmashtami images 2018 with friends and relatives and also with Krishna devotees. So without talking too much and wasting the time let us take you to the images of Janmashtami.


happy-janmashtami-images-2018



janmashtami images download

Krishna is the eighth avatar of lord Vishnu and born in the prison in the month of Shravana according to Hindu Calender. Krishna's father was Vasudev and mother was Devki. But Krishna grown up in the house of Jashoda and Nand. Krishna's various stories with mother Jashoda is vary famous and loved everywhere in the india.


happy janamshtami images for facebook

Krishna is known with various names and janmashtami is celebrated with the different different traditions in the various part on India and world. Krishna is also famous as Makhan Chor as he used to steal Makhan when he was small child.


happy janmashtami wallpaper

Krishna Bhagwan Ki Photo


Krishna Bhagwan Ki Photo

As Krishna's childhood, Krishna's young age is also full of various events. Krishna's love for Radha is very famous among the Krishna devotees. People worship Radha and Krishna for their great love, which is rare to find.


Krishna Bhagwan Ki Photo


Krishna's love for animals, specially for cows, are also very known. People worship cows and take care of them as mother. It is just because of Krishna that people give so much love to the animal.


janmashtami lord krishna image

We hope that you must have liked these Happy Janmashtami Images and you are going to share it. We have also collected some Janmashtami images for you so you can get more options for Janmashtami Images and you can celebrate this Janmashtami with love and joy. Happy Janmashtami !!

Sunday, June 3, 2018

Race 3 Box Office Collection Prediction

Race 3 Box Office Collection : सलमान खान की अगली फिल्म रेस 3, 15 जून 2018 को बड़े पर्दे पर आ रही है। रेस 3 को रेमो डिसोजा ने डायरेक्ट किया है जो की रेस 1 और रेस 2 के बाद रेस सीरीज की तीसरी कड़ी है। रेस सीरीज को लोगो का काफी प्यार हांसिल हुआ है और इसकी दोनों फिल्मे बॉक्स ऑफिस कलेक्शन के मामले में बहुत शानदार रही है। हालाँकि पहले दोनों फिल्मो में सैफ अली खान मुख्य अभिनेता थे और अब्बास मस्तान ने यह फिल्मे डायरेक्ट की थी। 

रेस 3 में सलमान खान मुख्य अभिनेता है तो उनके साथ में अनिल कपूर, बॉबी देओल, जैकलीन फर्नांडीज़ और डेज़ी शाह भी नजर आएँगी। फिल्म के ट्रेलर से ही पता चलता है की फिल्म में एक्शन और रोमान्स का भरपूर तड़का देखने को मिलेगा। 

Race 3 Box Office Collection

Race 3 Box Office Collection

रेस 3 सिनेमा घरो में 15 जून को रिलीज़ होने जा रही है और हर सलमान खान की फिल्म की तरह यह फिल्म भी कमाई के मामले में सभी रिकॉर्ड तोड़ेगी। सलमान खान की पिछली फिल्म टाइगर जिन्दा है ने भी बॉक्स ऑफिस  पर काफी धमाल मचाई थी और वो यही उम्मीद इस फिल्म से भी रख रहे होंगे। 

Opening Day Box Office Collection – 29.17 cr
First day Collection in India– 29.17 cr
Worldwide Collection –

Prediction of Race 3 Box Office Collection

सलमान खान का फिल्म में होना ही उसका 100 करोड़ क्लब में शामिल होने की गारंटी है और वैसे ही रेस सीरीज पहले से ही हिट है तो इस फिल्म में भी कलेक्शन के मामले में कोई दिक्कत नहीं होगी और पहले वीक में ही 100 करोड़ का बिज़नेस कर लेगी। वैसे भी फिल्म ईद पर रिलीज़ हो रही है तो उसका फायदा भी रेस 3 को मिलेगा। तो आइये देखते है रेस 3 के बॉक्स ऑफिस प्रेडिक्शन के बारे में।  

Box office prediction for 1st day - 40 Cr
Box office prediction for 2nd day - 38 Cr
Box office prediction for 3rd day - 42 Cr
Opening weekend Box office prediction - 110 Cr
Worldwide box office prediction - 500 Cr
Total box office collection Prediction - 500-700 Cr

तो सलमान खान की रेस 3 बॉक्स ऑफिस कलेक्शन के मामले में रिकॉर्ड बनाते दिख रही है अब फिल्म की रिलीज़ का इंतजार करते है और देखते है की रेस 3 बॉक्स ऑफिस की रेस में कितनी आगे जाती है। 

Friday, June 1, 2018

Swami Vivekananda Thoughts Quotes Suvichar in Hindi

स्वामी विवेकानंद हिन्दू धर्म के उन विख्यात और काफी प्रभावशाली आध्यात्मिक गुरुओ में से एक है जिनका लोहा पुरे विश्व ने माना है। विवेकानंद ने न सिर्फ महान भारतीय  परंपरा को विश्व से अवगत कराया किन्तु उनके द्वारा बताये गए थॉट्स सुविचार और अनमोल वचन ने विश्व को एक नया ही रास्ता और नई चेतना दी। 


Kabir ke dohe in Hindi

स्वामी विवेकानंद के उसी अनमोल विचारो को हिंदी में रखने का हमने एक छोटा सा प्रयत्न किया है। इस आर्टिकल में हमने स्वामी विवेकानंद कोट्स को संग्रहित किया है। हम आशा रखते है की स्वामी विवेकानंद के यह सुविचार आपको नई उम्मीद और हिम्मत देने में मददरूप होंगे। स्वामी विवेकानंद के विभिन्न क्षेत्रो में दिए गए विचारो को हमने एक ही पोस्ट में आपको देने का एक विनम्र प्रयास किया है। 

Swami Vivekananda Thoughts in Hindi


  • सबसे बड़ा पाप है अपने आप को कमजोर समजना। 



Swami Vivekananda Thoughts in Hindi



  • उठो, जागो और तब तक नहीं रुको जब तक लक्ष्य हाँसिल न हो जाये। 

Swami Vivekananda Hindi Quotes



  • विनम्र बनो। साहसी बनो। शक्तिशाली बनो।



  • सत्य को जताने के हजारों तरीके है और हर एक तरीका सत्य है। 


  • साहस ही जीवन है, कायरता मृत्यु है। प्यार जीवन है ,नफ़रत मृत्यु है। 

Swami Vivekananda Thoughts on Success in Hindi with Images

Swami Vivekananda Thoughts on Success



  • अपने आप में भरोसा रखे और एक दिन पूरा विश्व आपके कदमो में होगा। 

Swami Vivekananda Hindi Thoughts



  • जो व्यक्ति सांसारिक चीजो से व्याकुल नहीं होता समझो उस व्यक्ति ने अमरत्व प्राप्त कर लिया है। 



Swami Vivekananda Hindi Thoughts


स्वामी विवेकानंद कोट्स



  • यह विश्व एक एसी व्यायामशाला है जहाँ पर हम खुद को शक्तिशाली और मजबूत बनाने के लिए आते है। 

Suvichar of Swami vivekananda in Hindi



  • सिर्फ वो ही लोग जीते है जो दूसरों के लिए जीते है। 

Suvichar of Swami Vivekananda in Hindi



  • तुम स्वयं ही अपने भाग्य निर्माता हो। 

Motivational Quotes of Swami Vivekananda



  • अगर आपके दिल और दिमाग के बिच संघर्ष चल रहा हो तो हमेशा अपने दिल की सुने। 

Swami Vivekananda Quotes in Hindi for Students



  • आप जैसा सोचोगे वैसे ही बनोगे। अगर आप खुदको कमजोर सोचोगे तो कमजोर बनोगे और अगर आप खुदको मजबूत सोचोगे तो मजबूत बनोगे। 

Swami Vivekananda Thoughts on Education



  • कभी मत सोचिये कि आत्मा के लिए कुछ भी असंभव है. ऐसा सोचना ही सबसे बड़ा विधर्म है. अगर कोई पाप है, तो वो यही है; ये कहना कि तुम निर्बल हो या अन्य निर्बल हैं. 

स्वामी विवेकानंद के विचार



  • आपका धन अगर दूसरों की भलाई में काम आ सके या दूसरो की भलाई में कुछ मदद करे तो ही उसका कुछ मूल्य है, अन्यथा तो ये सिर्फ बुराई का एक ढेर है और इससे जितना जल्दी छुटकारा मिल जाये उतना बेहतर है। 

स्वामी विवेकानंद सुविचार

स्वामी विवेकानंद सुविचार


  • आप भगवान पर तब तक विश्वास नहीं कर सकते जब तक आप खुद पे विश्वास नहीं करते। 


  • जिस तरह से विभिन्न स्रोतों से उत्पन्न धाराएँ अपना जल समुद्र में मिला देती हैं, उसी प्रकार मनुष्य द्वारा चुना हर मार्ग, चाहे अच्छा हो या बुरा भगवान तक जाता है।


Swami Vivekananda Thoughts on Success in Hindi


  • किसी की भी निंदा न करे। अगर आप मदद के लिए हाथ बढ़ा सकते है तो जरुर बढ़ाये और अगर आप मदद के लिए हाथ नहीं बढ़ा सकते है तो फिर दूसरो को हाथ जोडीये, आशीर्वाद दीजिये और उन्हें अपने मार्ग पर जाने दीजिये।


Swami Vivekananda Inspirational Thoughts in Hindi




  • एक भी चीज़ जो तुम्हे शारीरिक रूप से, मानसिक रूप से या फिर आध्यात्मिक रूप से कमज़ोर बनाती है, वो जहर है।


स्वामी विवेकानंद के अनमोल वचन







  • हम वो हैं जो हमें हमारी सोच ने बनाया है, इसलिए इस बात का धयान रखिये कि आप क्या सोचते हैं. शब्द गौण हैं. विचार रहते हैं, वे दूर तक यात्रा करते हैं। 

Thursday, May 31, 2018

संत कबीर दास जी का जीवन परिचय दोहे इन हिंदी अर्थ सहित

संत कबीर हिंदी के जाने माने और काफी सन्माननीय नामों में से एक है। कबीर के दोहे उसके अर्थपूर्ण उपदेश के लिए काफी जाने जाते है और कबीर का नाम हिंदी कविओं में बहुत आदर से लिया जाता है। इस लेख में आप 
संत कबीर दास जी का जीवन परिचय, कबीर दास जी के दोहे हिंदी में अर्थ सहित प्राप्त करेंगे और इस आर्टिकल को आप कबीर जी पर निबंध के तौर पर भी इस्तेमाल कर सकते है। कबीर दास इन हिंदी का यह आर्टिकल आपके ज्ञान में तो वृद्धि करेगा ही पर साथ साथ में कबीर वाणी आपके जीवन में भी एक हकारात्मक सोच लायेगा।


कबीर दास का जीवन परिचय | Kabir Das in Hindi

Kabir Das in Hindi

कबीर हिंदी साहित्य के महिमा मण्डित और आदरणीय व्यक्तित्व है। कबीर को संत कबीर या फिर कबीरा या कबीर दास के नाम से भी जाना जाता है। संत कबीर भारत के गूढ़ कवि और संत थे। कबीर को गूढ़ या रहस्यवादी कवि इस लिए कहा जाता है क्यूंकि उनके मुताबिक मनुष्य ईश्वर की अनुभूति बिना किसी किताब या मनुष्य की मदद से सीधे सीधे ही कर सकता है। भगवान से मिलने के लिए किसी व्यक्ति या किताब की जरुरत नहीं है ऐसा वो निश्चितरुप से मानते थे।

कबीर का जन्म : कबीर का जन्म 1398 में वाराणसी (अभी उत्तर प्रदेश ) में हुआ था। विक्रम सम्वत के मुताबिक उनका जन्म 1455 में हुआ था।  कबीर के जन्म और पालन के बारे में एक निश्चित राय नहीं है की कबीर नीमा  और नीरू की वास्तविक संतान थे या फिर उन्होंने कबीर का पालन पोषण किया था। लेकिन यह बात निश्चित है की वो नीमा  और नीरू  नामके मुस्लिम बुनकर परिवार में पले बढे। कबीर ने स्वयं को इस रूप में प्रस्तुत किया है।

"जाति जुलाहा, नाम कबीरा

बनि बनि फिरो उदासी।'

 कबीर के गुरु : वैष्णव संत रामानंद को कबीर के गुरु के रूप में जाना जाता है। कबीर के गुरु के लिए यह कहानी काफी प्रचलित है की कबीर रामानंद को अपना गुरु बनाना चाहते थे पर रामानंद ने उन्हें अपना गुरु बनाने से इन्कार कर दिया था। पर कबीर ने रामानंद को ही अपना गुरु बनाने का  ठान लिया था और इसके लिए कबीर ने एक युक्ति की। कबीर जानते थे की रामानंद सुबह 4 बजे उठकर गंगा स्नान करने जाते थे। एक दिन, एक पहर रात रहते ही कबीर पंचगंगा घाट की सीढ़ियों पर गिर पड़े। रामानन्द जी गंगास्नान करने के लिये सीढ़ियाँ उतर रहे थे कि तभी उनका पैर कबीर के शरीर पर पड़ गया। उनके मुख से तत्काल 'राम-राम' शब्द निकल पड़ा। उसी राम को कबीर ने दीक्षा-मन्त्र मान लिया और रामानन्द जी को अपना गुरु स्वीकार कर लिया।




कबीर की मृत्यु : कबीर का पूरा जीवन काशी में ही गुजरा लेकिन मरने के समय वो मगहर चले गए थे। कहा जाता है की कबीर के विरोधियोँ ने उन्हें मगहर जाने के लिए मजबूर किया था जिससे उनको मुक्ति न मिल पाए। कबीर भी मगहर जाकर काफी दुखी थे। कबीर की मृत्यु मगहर में ही 1518 में हुई।


कबीर के दोहे | कबीर दोहे  | कबीर दास के दोहे | कबीर दास जी के दोहे


कबीर की भाषा सधुक्कड़ी मणि जाती है जिसमे हिंदी भाषा की सभी बोलियां शामिल हो जाती है। कबीर के शिष्यों ने कबीर की वाणी का संग्रह बीजक नामक ग्रन्थ में किया है जिसमे साखी, सबद और रमैनी जैसे तीन भाग है। कबीर पढ़े लिखे नहीं थे और उनके शिष्यों ने उनके द्वारा बोली गई वाणी को लिखा। कबीर के अनुयायीओ ने कबीर पंथ की स्थापना की। इन सभी में कबीर की अमृत वाणी काफी प्रचलित हुई उसे हम कबीर के दोहे के रूप में भी जानते है। 

कबीर के दोहे काफी असरदार ढंग से कम शब्दों में बहुत कुछ बोल देते है। कबीर ने हिन्दू और मुस्लिम दोनों सम्प्रदायों की कई नितिरीतियो  भी उठाये जिसकी वजह से वे धर्मगुरु ओ में अप्रिय भी रहे। पर कबीर को इन किसी बातो से फरक नहीं पड़ा।  

कबीर के दोहे इन हिंदी | कबीर के दोहे अर्थ सहित | Dohe of Kabir in Hindi

Dohe of Kabir in Hindi

दोहा 

बुरा जो देखन मैं चला, बुरा न मिलिया कोय,
जो दिल खोजा आपना, मुझसे बुरा न कोय।

अर्थ

कबीर जी इस दोहे में कहते है की जब जब मेने संसार में बुराई की खोज की तो मुझे कोई भी बुरा नहीं मिला और जैसे ही मैंने अपने अंदर देखा तो पाया की मुझसे बुरा कोई है ही नहीं।   

*****

दोहा

जाति न पूछो साधु की, पूछ लीजिये ज्ञान,
मोल करो तरवार का, पड़ा रहन दो म्यान।

अर्थ

इस अर्थपूर्ण दोहे में कबीर दास यह कहना चाहते है की किसी भी सज्जन व्यक्ति को उसकी जाति से नहीं किन्तु उसके ज्ञान से आँकना चाहिए। असली मोल तलवार का होता है न की उसको ढकने वाले पात्र यानि की म्यान का। 

*****

दोहा

निंदक नियरे राखिए, ऑंगन कुटी छवाय,
बिन पानी, साबुन बिना, निर्मल करे सुभाय।

अर्थ 

अपनी निंदा करने वालो का महत्त्व समझाते हुए कबीर कहते है की जो भी हमारी निंदा करता है उसे हमे अपने जितना पास हो सके उतना  पास ही रखना चाहिए क्यूंकि वो बिना साबुन और बिना पानी हमारी कमियाँ बताता है और हमारे स्वभाव को निर्मल करने में मदद करता है। 

*****
दोहा

कबीरा खड़ा बाज़ार में, मांगे सबकी खैर,
ना काहू से दोस्ती,न काहू से बैर।

अर्थ  

सबसे अच्छा संबंध बनाते रहने पर कबीर कहते है की इस संसार रूपी बाज़ार में खड़े रहकर में यही चाहता हु की सबका भला हो। अगर किसी से दोस्ती न हो तो उससे दुश्मनी भी न हो।

*****
दोहा

बड़ा हुआ तो क्या हुआ जैसे पेड़ खजूर,
पंछी को छाया नहीं फल लागे अति दूर।

अर्थ 
बड़ा होने के बावजूद अगर हम किसी के काम नहीं आते तो फिर हमारे बड़े बनने का कोई मोल ही नहीं है। कबीर दास जी ने खजूर के पेड़ का उदाहरण देकर इस चीज़ को वाकई में शानदार ढंग से समझाया है। खजूर का पेड़ काफी लम्बा होता है लेकिन वो न तो ढंग की छाँव दे पाता है और उसके फल भी बहुत ऊपर होते है जिससे कोई उसको खाकर अपनी भूख भी नहीं मिटा पाता।

*****
दोहा

कबीर सो धन संचे, जो आगे को होय,
सीस चढ़ाए पोटली, ले जात न देख्यो कोय।

अर्थ
धन का ज्यादा मोह न रखने की सलाह देते हुए कबीर कहते है की हमें उतना धन ही इकठ्ठा करना चाहिए जितना भविष्य में उपयोग में आ सके। ज्यादा धन इकठ्ठा करने का कोई फायदा नहीं है क्यूंकि सर पर धन की पोटरी बांध कर साथ ले जाते हुए तो किसी को नहीं देखा।

*****
दोहा

हिन्दू कहें मोहि राम पियारा, तुर्क कहें रहमाना,
आपस में दोउ लड़ी-लड़ी  मुए, मरम न कोउ जाना।

अर्थ
 धर्म के नाम पर लड़ने वालो के लिए संत कबीर ने बहुत ही अर्थपूर्ण बात कही है। कबीर कहते है की हिन्दू कहते है की उन्हें राम प्यारा है और मुस्लिम कहते है उन्हें रहमान प्यारा है। इसी बात पर वो लड़ लड़ कर मौत के मुंह तक जा पहुंचे लेकिन असली मर्म इनमे से कोई न जान पाया।

*****
दोहा

जिन खोजा तिन पाइया, गहरे पानी पैठ,

मैं बपुरा बूडन डरा, रहा किनारे बैठ।

अर्थ 

प्रयत्न का महिमा मंडन करते हुए कबीर जी इस वाणी में कहते है की जो जैसा प्रयत्न या कोशिश करते है उसको वैसा मिल ही जाता है। अथाग मेहनत करने वाला गोताखोर गहरे पानी में जाता है और कुछ ना कुछ  अनमोल उसे मिल ही जाता है लेकिन कुछ लोग ऐसे भी होते है जो डूब जाने के डर से किनारे पर ही बैठे रहते है और उन्हें कुछ भी नहीं मिलता।


कबीर दास इमेजेज | Kabir Das Images


Kabir Das Images

Dohe of Kabir in Hindi Image