Thursday, August 16, 2018

Happy Krishna Janmashtami Wishes Images in Hindi English

Happy Krishna Janmashtami Wishes Images : नमस्कार दोस्तों आप सभी को जन्माष्टमी की ढेर सारी शुभकामनाएँ। हम सभी जानते है की भगवान श्री कृष्णा के जन्मदिन को हम जन्माष्टमी के रूप में मनाते है और हर भारतीय चाहे वो भारत में हो या विदेश में वो बहुत ही उत्साह के साथ जन्माष्टमी का त्यौहार सेलिब्रेट करते है। 

हम सभी भगवान श्री कृष्ण को काफी मानते है और उनके विभिन्न रूपों की पूजा करते है। कृष्ण एकमात्र ऐसे भगवान है जिनके बचपन के शैतानियों को भी लोग प्यार करते है और उनके द्वारा दिए गए भगवदगीता के ज्ञान को भी फॉलो करते है। इसी लिए कृष्णा सभी के प्रिय भगवान है और इसमें कोई शक नहीं है। 



इसी लिए जन्माष्टमी के सेलिब्रेशन को आपके लिए स्पेशल बनाने के लिए हमने यह Happy Krishna Janmashtami Wishes Images की आर्टिकल बनाया है। इस पोस्ट में हमने krishna janmashtami के लिए wishes images आपके लिए कलेक्ट किये है जो की hindi और english दोनों भाषाओं में है। 

इससे पहले हमने krishna janmashtami 2018 images और janmashtami images download के लिए भी पोस्ट बनाये है उम्मीद है आपको वो पसंद आएंगे। आप श्री कृष्णा स्पेशल वेबसाइट Krishna Janmashtami Images से भी कृष्णा इमेजेज प्राप्त कर सकते है। 

Happy Krishna Janmashtami Wishes Images


Happy Krishna Janmashtami Wishes Images



Happy Krishna Janmashtami Wishes Images



Happy Krishna Janmashtami Wishes Images in Hindi



Happy Krishna Janmashtami Wishes Images in Hindi


Happy Krishna Janmashtami Wishes Images Free Download



Happy Krishna Janmashtami Wishes Images Free Download

janmashtami wishes images free download


Happy Krishna Janmashtami Wishes Images in English



Happy Krishna Janmashtami Wishes Images in English


Happy Krishna Janmashtami Wishes Images in HD

Happy Krishna Janmashtami Wishes Images in HD


Happy Janmashtami Images

Happy Janmashtami Images

Happy Janmashtami 2018 Images



Happy Janmashtami Wishes in Hindi

Happy Janmashtami Wishes in Hindi


भगवन श्री कृष्ण के कदम आपके घर आये,
आप खुशियो के दीप जलाये,
परेशानी आपसे आँखे चुराए,
कृष्ण जन्मोत्सव की आपको शुभकामनायें .
हैप्पी जन्माष्टमी !!


कृष्ण जिनका नाम,
गोकुल जिनका धाम,
ऐसे श्री कृष्ण भगवान को
हम सब का प्रणाम,
जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ एवं कृष्ण जन्माष्टमी की बधाई। 


श्री कृष्णा जन्मष्टामी पर भगवन श्री कृष्णा को यही प्रार्थना करते है की आपको गोकुल की तरह कठिनाईओ से बचाये और मीठी बांसुरी की तरह खुशियाँ दिलाये। जय श्री कृष्ण !! हैप्पी जन्माष्टमी। 

{ Happy } Krishna Janmashtami 2018 Images Free Download


First of all Happy Janmashtami 2018 to you. Thank you for coming to this special post for Krishna Janmashtami 2018 Images. Krishna is one of the most loved and worshiped god in the world specially in India. Krishna Janmashtami is celebrated as the day of birth of Lord Krishna. We have collected various Happy Krishna Janmashtami 2018 images for you. You can download Krishna Janmashtami 2018 Images Wallpapers for free and these Janmashtami 2018 Images in HD so that you can also make these Happy Janmashtami Images as your whatsapp and facebook profile picture.  


happy-krishna-janmashtami-2018-images-photos-wallpapers

When Janmashtami is Celebrated?


Janmashtami is celebrated on the eighth day (also called Ashtami) of the Krishna Paksha (or Vada Paksha or Dark Fortnight) during the month of Bhadrap. Which most of comes in August or September month of the English Calender or Gregorian Calender.



What are the other names used for Krishan Janmashtami?


Krishna Janmashtami is also known by different different names like Janmashatami, Sree Jayanti, Krishanashtami, Dahi Handi, Gokulashtami, Saatam Aatham, Srilrishna Jayanti and Ashtami Rohini in all over the India. Krishna Janmashtami is also celebrated in the other areas of the world like Nepal, Pakistan, Bangladesh, Fiji and other countries like USA and canada where Hindu people is living.


  
How Krishna Janmashtami is Celebrated?

Janmashtami is celebrated with high enthusiasm in all over the world with various religious traditions. People poetrate life and birth of Lord Krishna in various ways and celebrates the Janmashtami with Bhajans and dance also known as Raas.


In Mathura and Vrindavan, Janmnashtami is celebrated with highly emotions as this is the birth place of Lord Krishna. Mostly Vaishnav community celebrates the Janmashtami here. People sings devotional songs and Bhajans of Shri Krishna and keeps Upavasa or fast and do jagaran,night vigil.



Krishna Janmashtami Dates in upcoming years : 

Now have a look at the dates for the Janmashtami for next few years. We have given here the dates of Janmashtami for the year of 2017, 2018 and 2019. As Janmashtami is celebrated according to Hindu calender the dates for Krishna jayanti may vary for one or two days. 

Janmashtami 2017 Date :   Tuesday, 15 August, 2017.
Janmashtami 2018 Date :  Sunday, September 2, 2018.
Janmashtami 2019 Date : Saturday, 24 August, 2019.

👉 Happy Janmashtami Images

happy janmashtami images 2018

happy-janmashtami-images-2018



Happy Janmashtami Images

👉 Krishna Janmashtami 2018 Images

Krishna Janmashtami 2018 Images

Janmashtami Images 2018




Krishna Janmashtami 2018 Images


happy-krishna-janmashtami-2018-images



👉 Krishna Janmashtami Images HD

krishna-janmashtami-images-hd






krishna-janmashtami-images-hd


👉 Krishna Janmashtami Wallpapers

Krishna Janmashtami Wallpapers


krishna-janmashtami-wallpapers



👉 Janmashtami Images Download 

happy-janmashtami-images-download

janmashtami-images-free-download


janmashtami-images-download

👉 Happy Janmashtami 2018 Images

Happy Janmashtami 2018 Images

Happy Krishna Janmashtami GIF

Happy Krishna Janmashtami GIF


Krishna Janmashtami Images Video



Thanks for reading this complete post about Shri Krishana Janmashtami Images. Do not forget to share these Happy Janmashtami Images along with your friends and family. Thank you very much. Happy Krishna Janmashtami



Sunday, August 12, 2018

भारतीय बल्लेबाजों ने टेके घुटने - लॉर्डस टेस्ट में भारत की करारी हार

लॉर्ड्स में खेले गए दुसरे टेस्ट मैच में भी भारत को करारी हार का सामना करना पड़ा। दुसरे टेस्ट मैच में इंग्लैंड ने भारत को इनिंग और 159 रनो से मात दी। बारिश से प्रभावित टेस्ट मैच में इंग्लैंड की तेज गेंदबाजी के आगे भारतीय बल्लेबाजी बिलकुल नाकामियाब रही।

इंग्लैंड ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया था जो इस पिच कंडीशन में बहुत ही फायदेमंद साबित हुआ। भारत ने पहली पारी में सिर्फ 107 रन बनाये थे। पहली पारी में जेम्स एन्डर्सन ने 5 विकेट लिए थे और भारतीय बल्लेबाजी की कमर तोड़ दी थी।

पहली पारी में भारतीय टीम में सबसे ज्यादा रन रविचंद्रन अश्विन ने ही बनाये थे बाकि सारे बल्लेबाज विफल रहे थे। अश्विन ने 29 रन बनाये थे जबकि कप्तान कोहली ने 23 रन बनाये थे। इंग्लैंड की तरफ से पहली पारी में 5 विकेट एंडरसन ने जबकि स्टुअर्ट ब्रॉड और क्रिस वॉक्स को 2 - 2 विकेट मिले थे। जबकि पुजारा रन आउट हो गए थे।



भारत के 107 रनो के जवाब में इंग्लैंड ने पहली पारी में 7 विकेट खोकर 396 रन बनाये और अपनी पारी घोषित कर दी थी।  इंग्लैंड को 289 रनो की बढ़त मिली। इंग्लैंड की तरफ से क्रिस वॉक्स ने अपना पहला टेस्ट शतक लगते हुए नाबाद 137 रन जोड़े। जॉनी बैरस्टोव ने भी 93 रनो की महत्वपूर्ण पारी खेली। भारत की तरफ से मोहम्मद शमी और हार्दिक पंड्या ने 3-3 विकेट लिए जबकि इशांत शर्मा को 1 विकेट मिला।

289 रनो से पिछड़ी टीम इंडिया को सिर्फ बारिश का ही सहारा था लेकिन वो पर्याप्त नहीं था। दूसरी पारी में भी भारतीय बल्लेबाजी धराशायी हो गई और पूरी टीम सिर्फ 130 रन ही बना पाई। भारत की पूरी टीम से ज्यादा तो इंग्लैंड के अकेले क्रिस वॉक्स ने रन बनाये।

इंग्लैंड के तरफ से एंडरसन और ब्रॉड ने 4 - 4 विकेट लिए जबकि वोक्स को २ विकेट मिले। इंग्लैंड ने भारत पर इनिंग और 159 रनो से जित दर्ज की और सीरीज़ में २-० की बढ़त बना ली है। इंग्लैंड के क्रिस वॉक्स को मेन ऑफ़ ध मैच चुना गया। 

Wednesday, August 1, 2018

इंग्लैंड के खिलाफ भारतीय गेंदबाजों का शानदार प्रदर्शन - इंग्लैंड 9 विकेट खोकर 285 रन

India vs England First Test Day 1 : भारत और इंग्लैंड के बिच शुरू हो रही पांच टेस्ट मेचो की सीरीज़ के पहले टेस्ट मैच के पहले दिन इंग्लैंड ने 9 विकेट खोकर 285 रन बनाये। इंग्लैंड ने अच्छी शुरुआत के बाद गलत शॉट लगाते हुए लगातार अंतराल पर विकेट खोये और इसी वजह से बड़ा स्कोर करने में नाकाम रहे। 

इंग्लैंड के कप्तान जो रुट ने सर्वाधिक 80 रन और जॉनी बैरस्टोव ने  70 रनो की पारी खेली। इन दोनों की शतकीय साझेदारी ने इंग्लैंड को कुछ सन्मान जनक स्थिति में पहुँचाया। 

भारत की और से रविचंद्रन अश्विन ने सबसे ज्यादा 4 विकेट लिए और मोहम्मद शमी ने 2 विकेट लिए। आइये नजर डालते है पहले दिन के खेल पर। 

भारत बनाम इंग्लैंड पहला दिन 


  • टॉस इंग्लैंड ने जीता - पहले बल्लेबाजी का लिया फैसला


बर्मिंघम में पहले टेस्ट मैच में इंग्लैंड के कप्तान जो रुट ने टॉस जीता और पहले बल्लेबाजी करने का फैसला लिया। 

  • एलिस्टर कूक जल्दी आउट 
टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी इंग्लैंड का यह फैसला सही साबित नहीं हुआ जब भारत के सामने हर वक्त फॉर्म में रहने वाले एलिस्टर कूक आज जल्दी ही सस्ते में निपट गए। कूक को अश्विन ने मैच के 9 वे ओवर में ही आउट कर भारत को शानदार शुरुआत दिलाई। 

कूक 28 गेंदों में 13 रन बनाकर आउट हो गए उन्होंने 2 चौके लगाए। इंग्लैंड का स्कोर हुआ 26 पर 1 ओवर 8.5 

  • जेनिंग्स और रुट के बिच दुसरे विकेट के लिए अर्ध शतकीय साझेदारी 
पहला विकेट जल्द खो देने के बाद इंग्लैंड ने धीमी लेकिन बढ़िया बल्लेबाजी की। जेनिंग्स ने कप्तान जो रुट के साथ मिलकर दुसरे विकेट के लिए 76 रन जोड़े। जेनिंग्स 42 रन बनाकर मुहम्मद शमी का शिकार बने। 

इंग्लैंड का स्कोर 2 विकेट खोकर 98 रन 35.1 ओवर में 

  • शमी ने दिलाई एक और सफलता  
अभी इंग्लैंड के खाते में 14 रन ही जुड़े थे की शमी ने डेविड मलन को आउट कर भारत को तीसरी सफलता दिलाई और इंग्लैंड को बैकफुट पर भेज दिया। मलन ने सिर्फ 8 रन ही बनाये। इंग्लैंड का स्कोर 112 रनो पर 3 विकेट 

  • रुट - बैरस्टोव की शतकीय साझेदारी ने इंग्लैंड को संभाला   
joe-root-80-runs

लड़खड़ा रही इंग्लैंड की पारी को कप्तान जो रुट और जॉनी बैरस्टोव की जोड़ी ने संभाला। इन दोनों बल्लेबाजों ने शानदार बल्लेबाजी करते हुए चौथे विकेट के लिए 104 रन जोड़े। रुट और बैरस्टोव ने अपने अपने अर्ध शतक पुरे किये। इसी बीच रुट ने टेस्ट मैच में अपने 6000 रन भी पुरे किये।
 
सब कुछ अब इंग्लैंड के पक्ष में हो रहा था की तब जो रुट ने गलती कर दी और विराट कोहली के शानदार थ्रो की बदौलत रुट रन आउट हो गए। रुट ने 156 गेंदों में 80 रन बनाये जिसमे 9 चौके शामिल थे। यही से इंग्लैंड की पारी भी लड़खड़ाई।  
  • यादव - अश्विन इंग्लैंड को ले आए  बैकफुट पर 
रुट के आउट होते ही इंग्लैंड की पारी डगमगाने लगी। जॉनी बैरस्टोव भी 70 रन बनाकर आउट हो गए उन्हें उमेश यादव ने आउट किया तो अश्विन ने बेन स्टोक्स और जोस बटलर को आउट कर इंग्लैंड की बैटिंग लाइनअप पर करारा वार किया। 


  • भारतीय गेंदबाजी
इंग्लैंड के खिलाफ पहले टेस्ट मैच के पहले दिन भारतीय गेंदबाजों ने शानदार प्रदर्शन किया। रविचंद्रन अश्विन ने सबसे ज्यादा 4 विकेट लिए तो मोहम्मद शमी ने 2 विकेट और उमेश यादव ने 1 विकेट लिया। इशांत शर्मा को भी 1 विकेट मिला। 
  • पहले दिन खेल समाप्त पर इंग्लैंड 9 विकेट खोकर 285 रन 

Tuesday, July 31, 2018

आज इंग्लैंड खेलेगा 1000 वा टेस्ट मैच - भारत एजबेस्टन में अपना रिकॉर्ड सुधारने के लिए उतरेगा

भारत और इंग्लैंड के बिच 5 टेस्ट मेचो की श्रृंखला आज से शुरू होने जा रही है। पहला टेस्ट मैच एजबेस्टन में खेला जाना है। इंग्लैंड के लिए यह एक ऐतिहासिक मौका बनने जा रहा है। जी हां एजबेस्टन का यह टेस्ट मैच इंग्लैंड का 1000 वा टेस्ट मैच होगा और ऐसा करने वाला इंग्लैंड पहला देश होगा।  

ईंग्लैंड हर हाल में यह ऐतिहासिक मैच में जीत करने का प्रयास करेगा तो दूसरी तरफ भारत भी इंग्लैंड में अपने पिछले रिकॉर्ड को सुधारने के लिए जी जान से मेहनत करेगा। 

भारत का इंग्लैंड में रिकॉर्ड 

भारत का इंग्लैंड में टेस्ट मेचो में रिकॉर्ड इतना अच्छा नहीं रहा है। भारत ने इंग्लैंड में अबतक 57 टेस्ट मैच खेले है। जिसमे भारत को सिर्फ 6 मेचो में जीत मिली है जबकि 30 मेचो में हार का सामना करना पड़ा है और 21 मैच ड्रा हुए है। 

india-vs-england-first-test-2018

हालाँकि भारत की वर्तमान टीम काफी मजबूत है और हल ही में हुए एकदिवसीय मुकाबलों और टवेंटी टवेंटी सीरीज भी भारत ने अपने नाम की है। भारत टेस्ट मेचो में नंबर 1 स्थिति में है और इंग्लैंड को उन्ही की जमीं पर हराने की क्षमता भी रखती है। 

पहला टेस्ट मैच एजबेस्टन में खेला जाने वाला है। आइये अब देखते है इस मैदान पर भारत का रिकॉर्ड। 

एजबेस्टन में भारत का रिकॉर्ड 

एजबेस्टन में भारत ने 6 मुकाबले खेले है जिसमे से 5 में भारत की हार हुई ही जबकि 1 टेस्ट मैच ड्रा रहा है। 

जुलाई 1967 - भारत की 132 रनो से हार 
जुलाई 1974 - भारत की इनिंग और 78 रनो से हार 
जुलाई 1979 - भारत की इनिंग और 83 रनो से हार
जुलाई 1986 - टेस्ट मैच ड्रा 
जून 1996 - भारत की 8 रनो से हार 
अगस्त 2011 - भारत की इनिंग और 242 रनो से हार 


Sunday, July 29, 2018

चंद्रग्रहण के बारे में रोचक जानकारी हिंदी में | Lunar Eclipse Details in Hindi

Chandra Grahan Lunar Eclipse Details in Hindi : नमस्कार दोस्तों। अभी अभी 27 जुलाई 2018 को हम सबने इस सदी के सबसे लम्बे चंद्र ग्रहण का नजारा किया यह एक अद्भुत नजारा था जिसमे पूर्ण चंद्र ग्रहण के वक्त चाँद ब्लड मून में परिवर्तित हो जाता है। यह ग्रहण 21वी सदी का सबसे लम्बा चंद्र ग्रहण था। 

यह चंद्र ग्रहण पुरे 1 घंटे और 43 मिनिट तक चला था और भारत में देखा गया था। भारत के आलावा कुछ अन्य देशों में भी Lunar Eclipse देखा गया था। 


तो चलिये फिर आज इस आर्टिकल में चंद्र ग्रहण पर ही बात करते है। इस आर्टिकल chandra grahan in hindi में हमने आपके लिए चंद्र ग्रहण से जुडी जानकारी विस्तार से रखने का प्रयत्न किया है। हमने इस आर्टिकल में lunar eclipse question answer भी समाविष्ट किया हो जो की आपको competitive exams के लिए बहुत मददगार होंगे। 


चंद्र ग्रहण खगोलशास्त्र का एक छोटा सा भाग है इस लिए यह geography in hindi के लिए भी काफी महत्वपूर्ण आर्टिकल है। तो आइये अब information about Lunar Eclipse in Hindi आर्टिकल की तरफ आगे बढ़ते है। 



Chandra Grahan Lunar Eclipse in Hindi 27 July 2018


चंद्र ग्रहण  ( Lunar Eclipse )

सामान्य रूप से चंद्र सूर्य के प्रकाश से प्रकाशित रहता है। चंद्र पृथ्वी का उपग्रह होने के नाते उसके आसपास परिभ्रमण करता है और तकरीबन 27 दिनों में पृथ्वी का पूरा चक्कर लगाता है। चंद्र पृथ्वी की प्रदिक्षणा करता है जबकि पृथ्वी सूर्य के आसपास चक्कर लगाती है। 

सामान्यतः इस परिभ्रमण के दौरान चंद्र, पृथ्वी और सूर्य एक रेखा में नहीं होते है जिसकी वजह से पृथ्वी की छाया चंद्र पर नहीं पड़ती है। लेकिन जब पूर्णिमा को चंद्र पृथ्वी की कक्षा की और आता है तब अगर पृथ्वी की स्थिति सूर्य के साथ एक रेखा में रहती है तो पृथ्वी की छाया चंद्र पर पड़ती है और इसी परिस्थिति को चंद्र ग्रहण या अंग्रेजी में Lunar Eclipse कहते है। 

how-lunar-eclipse-occurs
    
अगर पृथ्वी की आंशिक छाया चंद्र पर पड़े और धनुष या फिर हँसिया जैसी आकृति बनती है तो इस ग्रहण को चंद्र अंश ग्रहण या फिर खंड ग्रहण (Partial Lunar Eclipse) कहते है। अगर चंद्र पृथ्वी की छाया में पूर्णतः ढक जाता है तो उसे चंद्र पूर्ण ग्रहण या खग्रास ग्रहण (Total Lunar Eclipse) कहते है।  

अगर सरल भाषा में कहे तो चंद्रग्रहण उस खगोलीय स्थिति को कहते है जब चंद्रमा पृथ्वी के ठीक पीछे उसकी प्रच्छाया में आ जाता है और ऐसा तभी हो सकता है जब सूर्य, पृथ्वी और चन्द्रमा इस क्रम में लगभग एक सीधी रेखा में स्थित हों।


चंद्र ग्रहण के बारे में रोचक तथ्य | Interesting Lunar Eclipse Facts in Hindi 

अभी हमने जाना की चंद्र ग्रहण कैसे होता है अब आइये कुछ और चंद्र ग्रहण से जुड़े तथ्यों के बारे में जानते है जिसे जानकर आपको बड़ा मजा आएगा साथ में आपकी जानकारी भी बढ़ेगी।  

सबसे लंबे चंद्र ग्रहण(Lunar Eclipse)के पीछे क्या है वजह


27 जुलाई 2018 को हुए चंद्र ग्रहण की खास विशेषता यह थी की वो इस सदी का सबसे लम्बा चंद्र ग्रहण था तो आइये जानते है उस वजह को जिसके कारन हमे सदी का सबसे लम्बा चंद्र ग्रहण देखने का मौका मिला। 


चंद्र के मुकाबले पृथ्वी काफी बड़ी है। इस बार चंद्र पृथ्वी के बिलकुल केंद्र से उत्तर की तरफ गुजरा था इसी लिए पृथ्वी की परछाई से बहार निकलने में चंद्र को ज्यादा समय लगा और यह चंद्र ग्रहण तकरीबन 2 घंटे तक चला। 


इससे पहले सबसे लंबा चंद्र ग्रहण कब हुआ था ?


NASA के पास इसकी काफी जानकारी उपलब्ध है। इतिहास का सबसे लम्बा चंद्र ग्रहण (longest lunar eclipse) 1700 में हुआ था जो तकरीबन 6 घंटे तक चला था। 


अगला लम्बा चंद्र ग्रहण कब होगा ?

27 जुलाई 2018 की रात लगने वाला Chandra Grahan सदी का सबसे लंबा ग्रहण था। इसके बाद 9 जून 2123 में इतना लंबा Lunar Eclipse देखने को मिलेगा।


पूर्ण चंद्र ग्रहण पर क्यों लाल दिखाई देता है चंद्र ?


दरअसल चंद्रग्रहण के समय जब सूरज और चंद्र के बीच पृथ्वी आती है तो सूरज की किरण रुक जाती है।  
पृथ्वी के वातावरण की वजह से रोशनी परावर्तित होकर चांद पर पड़ती है और इसी कारण चंद्रमा लाल नजर आता है। जब पूर्ण चंद्रग्रहण होता है तभी ब्लड मून होता है। 

भविष्य में नहीं दिखेगा चंद्र ग्रहण - जाने क्यों ?

खगोलीय घटना पर नजर रखने वाली संस्था नासा के मुताबिक चंद्र हर साल पृथ्वी से 5 सेंटीमीटर दूर हो रहा है। यह होने का कारन गुरुत्वाकर्षण बल है। पृथ्वी की परिभ्रमण गति चंद्र से ज्यादा है और यही वजह से चंद्र पृथ्वी से दूर जा रहा है।
चंद्र पृथ्वी से दूर जा रहा है जिसकी वजह से भविष्य में चंद्र ग्रहण और सूर्य ग्रहण जैसी घटनाये होंगी ही नहीं। हालाँकि यह सब होने में 60 से 70 करोड़ साल लगेंगे। 

More General Knowledge Articles:


Friday, July 27, 2018

Mahatma Gandhi Essay Thoughts in Hindi Language

Welcome to the special post about Mahatma Gandhi in Hindi. We have prepared essay on Mahatma Gandhi in hindi language. We have tried to cover the best details about gandhiji, the father of the nation. The details about mahatma gandhi in hindi will help you to understand mahatma gandhi. You can include this details in gandhi jayanti speech and essay on gandhi jayanti in hindi. 

We have also included some best thoughts of mahatma gandhi in hindi at the end of this article. This essay on Mahatma Gandhi in hindi language will help everyone to understand the great leader, Mahatma Gandhi.

Mahatma Gandhi Essay Thoughts in Hindi Language

Mahatma Gandhi Essay in Hindi | महात्मा गाँधी निबंध

महात्मा गाँधी का जन्म २ अक्टूबर 1869 में गुजरात के पोरबंदर में हुआ था। गांधीजी के पिता का नाम करमचंद था जब कि माता का नाम पूतलीबाई था। गांघीजी का पूरा नाम मोहनदास करमचंद गाँधी था। हालांकि लोग उन्हें महात्मा, बापु और राष्ट्रपिता के रूप में भी जानते है। 

महात्मा गाँधी पुरे विश्व में सत्य, अहिंसा और सदाचार के हिमायती के तौर पर जाने जाते है . गांधीजी की सत्य की साधना के पीछे हरिश्चंद्र की कहानी का बहुत बड़ा हाथ था . गांधीजी ने बचपन में राजा हरिश्चंद्र का नाटक देखा था उससे बहोत प्रभावित हुए थे . महात्मा गाँधी श्रवण की कहानी से भी बहुत प्रभावित थे और उन्होंने आजीवन सत्य के राह पर चलने का फैसला तभी से कर लिया था.


महात्मा गाँधी की माताजी काफी धार्मिक थी और उन्ही की वजह से गांधीजी के मन में सर्व धर्म समभाव की भावना जगी और शाकाहार को भी प्राथमिकता दी. 


महात्मा गाँधी ने अपनी प्राथमिक शिक्षा पोरबंदर में ही ली और हाई स्कूल की शिक्षा राजकोट मे पूरी की . स्कूल के दिनों में महात्मा गाँधी बहुत ही शर्मीले स्वभाव के थे . पढाई में भी गांधीजी एकदम होनहार नहीं थे और एक साधारण विद्यार्थी ही थे . गांधीजी ने इंग्लैंड में जाकर वकालत की पढाई की और वही पर प्रेक्टिस भी शुरू की.


गांधीजी का विवाह सिर्फ 13 साल की उम्र में ही कस्तूरबा से हो गया था उन दिनों भारत में बाल विवाह का संकट काफी गंभीर था हालाँकि भारत के कई इलाको में बाल विवाह आज भी मौजूद है. गांधीजी ने इसके दुस्परिणाम देखे थे और आगे चलकर बाल विवाह के नाबूदी के लिए भी गांधीजी ने महत्वपूर्ण कदम उठाये .


महात्मा गाँधी ने दक्षिण अफ्रीका में रंग भेद की वजह से अपमान सहन करना पड़ा . रेलवे में प्रथम श्रेणी की टिकिट होने के बावजूद भी उन्हें तीसरी क्लास के डब्बे में मुसाफ़री करनी पड़ी. इसी घटना की वजह से गाँधीजी के जीवन में महत्वपूर्ण मोड़ आया. इसी घटना से उनके मन मे सामाजिक समानता के बिज रोपे. उन्होंने दक्षिण अफ्रीका में भी भारतीयों के हको के लिए आन्दोलन किया.


भारत आने के बाद गांधीजी ने अंग्रेजो द्वारा भारतीयों पर हो रहे अत्याचारों को देखा और भारत को अंग्रेजो की इस गुलामी से आजाद करवाने का ठान लिया. गांधीजी ने अहिंसा, सत्याग्रह और असहयोग के हथियार से अंग्रेजो को भारत छोड़ने पर मजबूर कर दिया. 




महात्मा गाँधी भारत की आजादी के मूलभूत स्तंभों मै से एक महत्वपूर्ण स्तम्भ है .  गांधीजी ने अपना पूरा जीवन भारत की आजादी के लिए समर्पित कर दिया. हालाँकि भारत की आजादी में बहोत सारे लोगो ने साथ दिया लेकिन यह बात भी उतनी ही सच है की अगर महात्मा गाँधी न होते तो शायद ही हम आजाद हो पाते या फिर 1947 में हमें आजादी शायद ही मिल पाती.

महात्मा गाँधी ने भारत में आने के बाद भारत की गरीबी देख पूरी जिंदगी वस्त्र के रूप में सिर्फ धोती ही पहनी . उनका मानना था की जब तक मेरे देश के सभी लोगो को पहनने के लिए कपडे नहीं मिलते तब तक में भी सिर्फ धोती ही पहनूंगा . 


15 अगस्त, 1947 में भारत को आजादी मिली लेकिन उन्होंने इसके जश्न में शामिल होने के बजाय हिन्दू मुस्लिम एकता के काम में लग गए. उन्होंने भारत में से पाकिस्तान जा रहे मुस्लिम भाईओ के लिए 55 करोड़ रूपये भी पाकिस्तान को दिये. इससे कई हिन्दुओ को बुरा लगा और यही गुस्सा उनकी मौत का कारण बना .   


महात्मा गाँधी की मौत 30 जनवरी, 1948 को 78 वर्ष की उम्र में हुई थी. नाथूराम गोडसे ने महात्मा गाँधी की हत्या की थी . महात्मा गाँधी ने आज के नेताओ की तरह कभी भी अपने लिये सुरक्षा नहीं मागी . उनका यही मानना थी की वे लोग मुझे मार सकते है मेरे विचारो को नहीं . 


इस सताब्दी के महामानव के रूप में जिसे चुना गया है एसे महापुरुष को शत शत नमन। 

Mahatma Gandhi Thoughts in Hindi

Mahatma Gandhi Thoughts in Hindi

We have included some best gandhiji thoughts which can motivate you and your group and can also help you to share the great thoughts of gandhiji via Gandhi Jayanti  images.
  • काम की अधिकता नहीं लेकिन काम की अनियमितता आदमी को मार डालती है। 
  • अगर आदमी शिखना चाहे तो हर एक भूल उसे सिखा सकती है। 
  • सत्य हमेशा खड़ा रहता है चाहे लोगो का समर्थन हो या नहीं. सत्य आत्म निर्भर है। 
  • आँख के बदले आँख पुरे विश्व को अँधा कर देगी। 
  • खुद वो बदलाव बने जो आप पुरी दुनिया में देखना चाहते है। 
  • पहले वो आप पर ध्यान नहीं देगे, फिर वो आप पर हँसेंगे, फिर वो आप से लड़ेंगे और आखिर में जीत आपकी होगी। 
mahatma-gandhi-quotes-in-hindi-me




Related Terms: Hindi Essay, Essay in Hindi, Hindi Nibandh

खेड़ा सत्याग्रह के बारे में हिंदी में | Kheda Satyagrah in Hindi

Kheda Satyagraha in Hindi: नमस्कार दोस्तों ! GK in Hindi के एक और आर्टिकल में आपका स्वागत है और आज हम एक बहुत ही महत्वपूर्ण विषय के बारे में जानकारी देंगे। जी हाँ, आज हम गुजरात में हुए ऐतिहासिक खेड़ा सत्याग्रह के बारे में जानेंगे। खेड़ा सत्याग्रह के बारे में GPSC और UPSC  जैसी competitive exams में पूछा जाता है। 

एक तरह से देखा जाये तो खेड़ा सत्याग्रह इतना बड़ा नहीं था लेकिन उसकी वजह से देश की आजादी की लड़ाई में जो तेज और उत्साह का संचार हुआ वो पहले कभी नहीं हुआ था और इसी लिए भारत के इतिहास में खेड़ा सत्याग्रह का महत्त्व है। खेड़ा सत्याग्रह से ही भारत को और हम सबको सरदार वल्लभ भाई पटेल जैसे नेता मिले थे यह भी एक निर्विदित हकीकत है। तो आइये जानते है खेड़ा सत्याग्रह के बारे में। 


Kheda Satyagraha in Hindi


खेड़ा सत्याग्रह : सन 1917 में गुजरात के खेड़ा जिले की फसल ज्यादा बारिश की वजह से नष्ट हो गई। कानून के मुताबिक यदि फसल एक चौथाई नहीं होती है तो लगान में आधी छूट दिए जाने का प्रावधान था। लेकिन अंग्रेज सरकार ने लगान में छूट देने में किसी भी तौर से तैयार नहीं थी। 

जब कोई भी किसानो की बात सुनकर उनकी मदद के लिए तैयार नहीं था तब महात्मा गाँधी ने किसानो को सत्याग्रह करने का सुझाव दिया और साथ ही में लोगो को स्वयंसेवक और कार्यकर्त्ता बनने की अपील की। गांधीजी की अपील से ही वल्लभ भाई पटेल अपनी वकालत छोड़कर समाज सेवा में आये और सार्वजनिक जीवन का प्रारंभ किया। 

महात्मा गाँधी ने कठलाल के मोहनलाल पंड्या और शंकरलाल पारीख जैसे आगेवानों को साथ में रखा और अंग्रेजो को लगान माफ़ी की अरजी दी। 1917 में गांधीजी को गुजरात सभा के प्रमुख के रूप में चुना गया और गुजरात सभा के कार्यकरो ने गांधीजी की अगवाई में किसानो को लगान नहीं भरने के लिए समझाया और प्रतिज्ञा दिलाई। 

सरकार की तरफ से किसानो को काफी समझाया गया और खेत जप्त करने की धमकिया भी दी गई लेकिन किसान अपनी प्रतिज्ञा पर द्रढ़ रहे। इस प्रतिज्ञा को और भी मजबूत करने के लिए गांधीजी ने एक शानदार उपाय दिया। उन्होंने किसानो को सरकार द्वारा जप्त किये गए खेतो में से फसल काट कर लेने का सुझाव दिया और गांधीजी के सुझाव का पालन करते हुए मोहनलाल खेत में से प्याज की फसल उखाड़ लाये। 
मोहनलाल और उनकी मदद करने वाले कुछ किसानो को सरकार ने पकड़कर 15 दिनों की सज़ा दी। लेकिन इसके बाद यह सत्याग्रह चल पड़ा और अंग्रेज सरकार ने कुछ भी घोषणा किये बिना ही लगान की वसूली बंध करदी और खेड़ा सत्याग्रह का 1918 में सफलता पूर्वक समापन हुआ। 

खेड़ा सत्याग्रह आंदोलन भारत का पहला सत्याग्रह था जिसकी मदद से भारत के किसानो पहले कभी नहीं देखि गई चेतना तो मिली ही साथ में देश को सरदार वल्लभ भाई पटेल जैसे फौलादी मनोबल के नेता भी मिले। 

Sunday, July 15, 2018

GPSC Class 1-2 Recruitment 2018 for 294 Dy Collector / DySP & Other posts

GPSC Class 1-2 Recruitment 2018 : The Government of Gujarat has confirmed the recruitment process for class 1 and 2 for the year 2018. GPSC (Gujarat Public Service Commission) has declared the posting of 294 important places for class 1 and class 2 like Deputy Collecter, Dy.S.P, Taluka Development Officer and many other important places.

The details of GPSC Recruitment, Educational Qualification, Age Limit and Selection Process are given in the post. So read the whole article carefully. The mode of application will be online only and the jobs will be posted on gpsc-ojas.gujarat.gov.in and on ojas.gujarat.gov.in from 16/07/2018. 



GPSC Class 1-2 Recruitment 2018

GPSC Class 1 2 Posts

Total Number of Posts : 294 Posts

Class 1 Posts



  • Deputy Collector, Deputy District Development officer, Gujarat Administrative Service - 50 Posts.
  • Assistant commissioner of state tax - 15 posts.
  • Assistant Comm Tribal Development - 05 posts.
  • Deputy Superintendent of Police - 03 Posts.
  • Deputy director, Developing Castes - 01 Post.
  • Deputy director, Scheduled Castes - 01 Post.
Class 2 Posts
  • State tax officer - 40 Posts.
  • Mamlatdar - 34 Posts.
  • Taluka Development Officer - 32 Posts.
  • Municipal Chief Officer - 31 Posts.
  • Govt Labour Officer - 28 Posts.
  • Tribal Development Officer - 17 Posts.
  • District Inspector Land Records - 13 Posts.
  • Sachivalay Section Officer - 10 Posts.
  • Assistant Director, Food and Civil Supply - 10 Posts.
  • Prohibition and excise superintendent - 02 posts.
  • GPSC Section officer - 01 Post.
  • Social welfare officer - 01 Post.
Educational Qualifications : The candidate must have Bachelor's Degree with government recognized university.

Age Limit : Applicant must be aged between 20 to 35 years. ( Age relaxation will be applied as govermentt rules )

Salary and Pay Scale for Class 1: Pay matrix level 10 : 56,100 to 1,77,500 with other allowances according to 7th pay commission.

Salary and Pay Scale for Class 2: Pay matrix level 8 : 44,900 to 1,42,400 with other allowances according to 7th pay commission.

Job Application Mode : Through official website of GPSC https://ojas.gujarat.gov.in/

Application Fee : Candidates have to pay 100 rs as an application fee through online or in post office.

Selection Process : Selection for the post of Class 1 and class 2 jobs will be based on 2 steps of examination. Prelims and mains.
  1. First will be Preliminary examination. Prelim exam will be objective type.
  2. Main Exam will be written exam and personal interview.
Exam Pattern :
Exam Pattern
Advertisement : View
Apply Online : Apply

Important Dates for GPSC class 1 2 Recruitment

  • Online Application Starting Date : 16-07-2018
  • Online Application Last Date : 31-07-2018
  • Fee Payment Last Date : 31-07-2018
  • Preliminary Exam Date : 21-10-2018
  • Preliminary Exam Result : December, 2018.
  • Main Exam Date : 17 February, 23 February and 24 February 2019.
  • Main Exam Result : June, 2019.
  • Personal Interview : July, 2019.

Friday, July 13, 2018

कुलदीप यादव - रोहित शर्मा के आगे इंग्लैंड ने टेके घुटने - पहले एकदिवसीय मुकाबले में भारत की शानदार जीत

Ind vs Eng First ODI, Nottingham: इंग्लैंड के खिलाफ पहले एकदिवसीय मुकाबले में भारत ने इंग्लैंड को 8 विकेट से हरा दिया। इसके साथ ही भारत ने एकदिवसीय श्रृंखला में 1 - 0 से बढ़त बना ली है। भारत के कुलदीप यादव ने शानदार गेंदबाजी करते हुए 6 इंग्लिश बल्लेबाजों को चलता किया तो रोहित शर्मा के नाबाद शतक की बदौलत भारत ने इंग्लैंड के खिलाफ शानदार जीत दर्ज की। 

भारत बनाम इंग्लैंड टॉस: 

नॉटिंघम में खेले जा रहे पहले वनडे मुकाबले में भारतीय कप्तान विराट कोहली ने टॉस जीता और पहले गेंदबाजी करने का फैसला लिया। 



इंग्लैंड पारी 

टॉस हार कर पहले बल्लेबाजी करने उतरी इंग्लैंड की टीम की शुरुआत जेसन रॉय और जॉनी बैरस्टोव ने की। इन दोनों ने शानदार बल्लेबाजी करते हुए इंग्लैंड की टीम को मजबूत शुरुआत दिलाई। दोनों ने मिलकर पहली विकेट के लिए 10 ओवरों में 73 रन जोड़े और इंग्लैंड के लिए बड़े स्कोर का प्लेटफार्म तैयार किया लेकिन कुलदीप यादव ने इंग्लैंड के बल्लेबाजों की सोच पर पानी फेर दिया। 

india-vs-england-first-odi-nottigham-kuldeep-yadav


कुलदीप यादव ने जेसन रॉय को आउट कर इंग्लैंड को पहला झटका दिया। रॉय ने 38 रन बनाये। तेरहवें ओवर में कुलदीप यादव ने एक ही ओवर में जो रुट और जॉनी बैरस्टोव को आउट कर इंग्लैंड को बैकफूट पर धकेल दिया। 

कप्तान मॉर्गन को भी चहल ने आउट कर इंग्लैंड को चौथा झटका दिया। मॉर्गन के आउट होने के बाद नेम स्टॉक्स और जोस बटलर ने इंग्लैंड की पारी को संभाला और पांचवे विकेट के लिए 93 रन जोड़े। दोनों ने अर्धशतक बनाये और इंग्लैंड को 268 के स्कोर तक पहुँचाया। इंग्लैंड की पूरी टीम 49.5 ओवरों में आउट  हो गई। 

भारत की ओर से कुलदीप यादव ने सबसे ज्यादा 6 विकेट लिए। उमेश यादव ने 2 जबकि चहल को 1 विकेट मिला। 

भारतीय पारी 

  • 269 के स्कोर का पीछा करने उत्तरी भारतीय टीम को शिखर धवन और रोहित शर्मा की जोड़ी ने शानदार शुरुआत दिलाई। धवन -रोहित की जोड़ी ने पहले विकेट के लिए 7. 5 ओवरों में 59 रन जोड़े। धवन को 40 रनो पर आउट कर मोईन अली ने इंग्लैंड को पहली सफलता दिलाई। 

rohit-yadav-137-vs-england

धवन के आउट होने के बाद रोहित शर्मा ने विराट कोहली के साथ मिलकर उमदा बल्लेबाजी की दोनों ने दुसरे विकेट के लिए 167 रन जोड़े। विराट कोहली 75 रन बनाकर आउट हो गए। भारत ने जित का लक्ष्य 40.1 ओवरों में ही हांसिल कर लिया। रोहित शर्मा शानदार शतक लगाकर नाबाद रहे। रोहित शर्मा ने 137 रन बनाये। कुलदीप यादव को शानदार गेंदबाजी के लिए मेन ऑफ़ ध मैच चुना गया। 


  • भारतीय टीम 
  1. विराट कोहली ( कप्तान )
  2. रोहित शर्मा 
  3. शिखर धवन 
  4. के एल राहुल 
  5. सुरेश रैना 
  6. महेंद्र सिंह धोनी 
  7. हार्दिक पांड्या 
  8. कुलदीप यादव 
  9. उमेश यादव 
  10. यजुवेंद्र चहल 
  11. सिद्धार्थ कॉल 
  • इंग्लैंड टीम 
  1. ईओन मॉर्गन ( कप्तान )
  2. जेसन रॉय 
  3. जॉनी बैरस्टो
  4. जो रुट 
  5. बेन स्टोक्स 
  6. जोस बटलर 
  7. मोईन अली 
  8. डेविड विली 
  9. लिएम प्लंकेट 
  10. आदिल रशीद 
  11. मार्क वुड 

तीन वनडे मुकाबलों में यह पहला मुकाबला था। इससे पहले भारत ने टवेंटी टवेंटी सीरीज़ पर 2 - 1 से कब्ज़ा किया था। भारत अब सीरीज़ में 1 - 0 से आगे है।